Sukanya Samriddhi Yojana से बन सकती है आपकी बेटी करोड़पति, जाने कैसे

|| सुकन्या समृद्धि खाता योजना, sukanya samriddhi yojana, SSY, sukanya samriddhi yojana benefits, sukanya samriddhi yojana details, sukanya samriddhi yojana interest rate 2023 in hindi, sukanya samriddhi yojana calculator ||

Sukanya Samriddhi Yojana Important Update: नमस्कार दोस्तों देश में बेटियों का भविष्य सुरक्षित रहे इसके लिए हमारी केंद्र सरकार ने एक योजना की शुरुआत की थी जिसका नाम है सुकन्या समृद्धि योजना। इस योजना के अंतर्गत भारत सरकार बेटियों के जन्म से लेकर उसकी पढ़ाई एवं उसकी शादी तक के सारे आर्थिक खर्चे की मदद करती है। इस मदद के लिए उन्हें यानी बेटियों को रुपए 15 लाख तक की आर्थिक मदद दी जाती है।

अभी हाल में हीं इस योजना में केंद्र सरकार ने कुछ बदलाव किये हैं। इसी बदलाव की जानकारी हम आपको इस लेख में दे रहे हैं, अतः ध्यानपूर्वक इसे कृपया निवेश से पहले जान लें।

सुकन्या समृद्धि योजना क्या है।

भारत की केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) देश की बेटियों के लिए है। इस योजना के अंतर्गत भारत सरकार बेटियों का भविष्य सुरक्षित करने हेतु आर्थिक मदद देती है जिसे आप निवेश के माध्यम से आसानी से पा सकते हैं। सुकन्या समृद्धि योजना जैसा कि नाम से ही परिलक्षित है केवल बेटियों के लिए ही खोला जा सकता है और इसे आप किसी भी बैंक या डाकघर में खुलवा सकते हैं।

सुकन्या समृद्धि योजना की पूरी जानकारी

योजना नामसुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Yojana)
किसने शुरू कीकेंद्र सरकार ने
कब शुरू की2014 में
लाभार्थी0 से 10 वर्ष, देश की बेटियां
लाभ15 लाख रूपये आर्थिक मदद
निवेशन्यूनतम 250/-
अधिकतम निवेश – 150000/-
कुल अवधि 15 वर्ष
आवेदनऑनलाइन और ऑफलाइन
सुकन्या समृद्धि योजना आवेदन फॉर्मSSY Form Download
हेल्पलाइन नंबर18002666868
Telegram Pageज्वाइन करें
Facebook Pageज्वाइन करें

सुकन्या समृद्धि योजना में कितने रुपये मिलते है

सुकन्या समृद्धि योजना के तहत भारत की केंद्र सरकार बेटियों की भविष्य की चिंता करते हुए और उनका भविष्य संवारने हेतु रुपए 15 लाख तक की आर्थिक सहायता कर रही है। इस धनराशि का उपयोग बेटी की पढ़ाई से लेकर शादी तक में किया जा सकता है।

इस योजना में कितना निवेश करना होता है

इस योजना यानी सुकन्या समृद्धि योजना का लाभ लेने हेतु लाभार्थी के अभिभावक को कुछ निवेश भी करना होता है। सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत लाभार्थी के अभिभावकों को बेटी के नाम से बैंक में सुकन्या समृद्धि खाता खुलवाना होता है और साथ हीं उस खाते में हर महीने कम से कम ₹250 जमा करने होते है।

सुकन्या समृद्धि योजना में कब तक निवेश करना होता है

इस योजना में निवेश की भी एक सीमा है। यह निवेश आपको बेटी के 15 साल उम्र होने तक करना होता है। यह निवेश कुल ₹ 1.50 लाख प्रति वर्ष तक का होता है जिसमें सालाना न्यूनतम राशि ₹ 1000 का होता है। इसके बाद अगले 6 साल तक यह बैंक अकाउंट सक्रिय रहता है। फिर जब बेटी 21 साल की उम्र की हो जाती है तो यह खाता मैच्यूर हो जाता है।

आपको बता दें कि इस योजना में निवेश करने से किसी भी तरह का जोखिम नहीं है क्यूंकि यह निवेश टैक्स फ्री होता है। आज के समय में यह योजना 7.6 % का रिटर्न दे रही है।

सुकन्या समृद्धि योजना से करोड़पति

सुकन्या समृद्धि योजना ताजा अपडेट:

sukanya samriddhi yojana interest rate hindi

सुकन्या समृद्धि योजना कैलकुलेटर (sukanya samriddhi yojana calculator): केंद्र सरकार ने वित्त वर्ष 2023-24 की पहली तिमाही के लिए लघु बचत योजनाओं की ब्याज दर घोषित कर दी है। सरकार समर्थित छोटी बचत योजनाओं के लिए इस  बार यह ब्याज दरों के घोषणा में, भारत की केंद्र सरकार ने बेटियों की इस कल्याणकारी योजना सुकन्या समृद्धि योजना (SSY) की ब्याज दर को 7.60 % से बढ़ाकर 8 % कर दिया है।

यह एक ऐसा रिटर्न है जिसकी डेट म्यूचुअल फंड निवेशक लंबी अवधि के लिए अपने निवेश पर उम्मीद करते हैं। हालाँकि, यह SSY ब्याज दर तिमाही के आधार पर बदल सकता है। लेकिन अगर आप अपनी बेटी के जन्म केतुरंत बाद इस योजना यानी सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश अगर शुरू कर देते है, तो तक़रीबन 7.60 से 8 प्रतिशत रिटर्न मिलने की आप उम्मीद कर सकते हैं।

यदि आप अपनी बेटी के जन्म के तुरंत बाद एसएसवाई खाते में निवेश करना शुरू करते हैं, तो आप इसमें 15 साल के लिए निवेश योगदान कर सकते हैं। क्योंकि कोई अपने सुकन्या समृद्धि योजना खाते में तब तक जमा कर सकता है जब तक कि उसकी बेटी 14 साल की नहीं हो जाती। लड़की के 14 साल का होने के बाद लड़की के 18 साल का होने पर मैच्योरिटी राशि का 50 फीसदी निकाला जा सकता है। और बाकी की मैच्योर हुई धनराशि तब आप निकाल सकते है जब आपके बेटी की की उम्र 21 साल हो जाए। हालाँकि, लड़की के 21 वर्ष के हो जाने के बाद पूरी निकासी राशि आप जरूर ले सकते हैं अगर वे अपने SSY खाते से पैसा निकालना उचित नहीं समझते हैं।

धनराशि की मैच्युरिटी के समय अगर धनराशि पर लगभग 7.6 % का रिटर्न मानते हुए, यदि आप 12 किश्तों में हर महीने ₹12,500 का निवेश करते हैं, तो आप (निवेशक) एक वित्तीय वर्ष में धारा 80सी की सीमा के अंतर्गत अपनी ₹1.5 लाख आयकर लाभ सीमा का उपभोग करने में सक्षम होंगे। यदि आप निवेशक अपनी बेटी के 21 साल के हो जाने पर पूरी धनराशि की निकासी कर लेते हैं, तो SSY की परिपक्व (मैच्युरिटी) धनराशि राशि लगभग ₹63,79,634 होगी।

इसलिए, अगर आप अपनी बेटी के जन्म लेने के तुरंत बाद सुकन्या समृद्धि योजना के खाते में ₹12,500 हर महीने निवेश करना शुरू कर देते हैं, तो आपकी बेटी के 21 साल की उम्र होने पर वह करोड़पति होगी।

आयकर लाभ – Sukanya Samriddhi Yojana Interest Rate 2023

जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, एक निवेशक आयकर अधिनियम की धारा 80C के तहत एकल वित्तीय वर्ष में SSY खाते में निवेश किए गए ₹1.50 लाख तक के आयकर लाभ का दावा कर सकता है। SSY ब्याज अर्जित किया और SSY परिपक्वता राशि पर भी 100 प्रतिशत कर छूट दी जाएगी

सुकन्या समृद्धि योजना में किये गये 5 महत्वपूर्ण बदलाव

  • सुकन्या समृद्धि योजना में जो बदलाव किए गए हैं वह इस प्रकार हैं। शुरुआत में सरकार ने यह योजना का लाभ एक ही परिवार की केवल दो बेटियों को देने का निर्णय लिया था। पर अगर दूसरी बेटी जुड़वा होती है तो फिर तीसरी बेटी के लिए भी वह परिवार खाता खोल सकता था, लेकिन उसका लाभ इनकम टैक्स के सेक्शन 80c के अंतर्गत तब नहीं दिया जा रहा था। लेकिन नए नीति के अनुसार अब इस इनकम टैक्स वाली पाबंदी को हटा दिया गया है यानी कि अब तीसरी बेटी जो अगर जुड़वा होती है तो उसे भी इनकम टैक्स का बेनिफिट दिया जाएगा।
  • इस योजना के तहत बेटी के खाते का संचालन बेटे के 10 वर्ष पूरे हो जाने के बाद ही किया जाता था। लेकिन नए नियम के अनुसार अब सरकार ने 18 साल से पहले खाते को संचालित नहीं करने का नियम लागू कर दिया है।
  • सुकन्या समृद्धि योजना में परिवार अपनी बेटी के लिए प्रति वर्ष न्यूनतम ₹1000 और अधिकतम 1.50 लाख रूपये जमा कर सकता है। लेकिन अगर लाभार्थी के अभिभावक किसी भी कारण से न्यूनतम राशि अगर जमा नहीं कर पाते हैं तो उसका अकाउंट पहले डिफॉल्टर घोषित कर दिया जाता था। पर अब से ऐसा नहीं होगा । आप किसी योजना में एक महीने में कभी भी यह पैसा जमा कर पाएंगे और इससे ब्याज दर में भी किसी भी तरह का बदलाव नहीं आयेगा।
  • इस योजना में जो दूसरा बदलाव किया गया है वह यह है कि अगर किसी लाभार्थी बेटी के खाते में ब्याज गलत हो गया है तो उसे अब वापस करने की जरूरत नहीं है यानी अगर किसी कारण से ब्याज की राशि गलत डल गई है तो अब लाभार्थी को उसे वापस करने की कोई जरूरत नहीं है। खाते में जितना भी सालाना ब्याज होता है वह वित्त वर्ष के अंतिम में खाते में क्रेडिट कर दिया जाता है।
  • अंतिम और महत्वपूर्ण बदलाव यह किया गया है कि शुरुआत में इस योजना में लाभार्थी बेटी का अकाउंट केवल दो ही स्थिति में प्रीमेच्योर ही बंद कर दिया जाता था। पहले स्थिति तो यह कि अगर बेटी की समय से पहले मृत्यु हो जाती है या दूसरा जो स्थिति है वही की बेटी की शादी विदेश में हो गई हो। लेकिन अब नए नियम के अनुसार बेटी का अकाउंट कुछ और अन्य कारणों से भी बंद किया जा सकता है।
  • जैसे कि यदि बेटी को कोई जानलेवा या खतरनाक बिमारी लग गई हो या फिर बेटी के अभिवावक यानी माता-पिता की मृत्यु हो जाने पर भी यह योजना खाता समय से पूर्व बंद किया जा सकता है.  

ये थे सरकार द्वारा इस योजना में किये गये कुछ महत्वूर्ण बदलाव। यदि आप इस योजना के लाभार्थी के अभिभावक हैं या लाभार्थी हैं, तो इसे जानना आपके लिए बेहद आवश्यक है।

लाड़ली बहना योजना लॉगिन कैसे करें और पाए हर महीने लाभ ₹1000 का – जाने यहां

Sukanya Samriddhi yojana details 2023

  • इस योजना के लिए लाभार्थी बालिका की अधिकतम प्रवेश आयु 10 वर्ष है। यानी इस योजना के लिए बालिका की आयु 10 वर्ष या उससे कम की होनी चाहिए।
  • इस योजना में सालाना न्यूनतम निवेश धनराशि है रुपए 1000 और अधिकतम राशि 1.50 लाख रुपए रखी गई है।
  • SSY Scheme में लाभार्थी के अभिभावक को 15 वर्ष तक प्रीमियम राशि जमा करनी होती है और जिसकी मैच्योरिटी अवधि 21 वर्ष है।
  • वर्तमान समय में इसकी ब्याज दर (interest rate) 7.60 % है।
  • इस योजना का प्रीमियम यदि आप हर महीने जमा कर रहे हैं तो हर महीने के 1 तारीख और यदि सालाना जमा करते हैं तो प्रतिवर्ष 1 अप्रैल को जमा की जाएगी।
  • लाभार्थी बालिका के 18 वर्ष पुरे होने पर उसकी उच्च शिक्षा की पढाई के लिए 50 प्रतिशत धनराशि निकालने का विकल्प मौजूद है।
  • सुकन्या समृद्धि योजना का खाता आप एक जगह से दूसरी जगह भी स्थानांतरित यानी ट्रांसफर करवा सकते है।
  • इस योजना का लाभ दत्तक पुत्री (जिसे गोद लिया हो) के लिए भी लेने का प्रावधान है।

आज हमने सुकन्या समृद्धि योजना से जुड़े हुए सरकार द्वारा किए गए महत्वपूर्ण बदलाव के बारे में जाना। आपने अगर इस योजना में खाता खोला है तो यह जानना आपके लिए अति आवश्यक है और नए खाता खोलने वालों के लिए भी यह जानकारी बहुत ही जरूरी है। इस जानकारी को अपने परिवार और मित्रों से भी जरूर साझा करें। योजना से जुड़ी अगर कोई और आपके मन में सवाल है तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं। आप अगर चाहे तो हमारे टेलीग्राम ग्रुप और फेसबुक ग्रुप से भी जुड़ सकते हैं या फिर ट्विटर पर हमें ट्वीट भी कर सकते हैं।

मुख्यमंत्री जीवन जननी योजना, गर्भवती महिलाओं को मिलेंगे 4000 रुपये – जाने कैसे

FAQ

सुकन्या समृद्धि योजना में न्यूनतम और अधिकतम राशि कितनी जमा कर सकते हैं।

इस योजना के अंतर्गत न्यूनतम राशि सालाना ₹1000 हैं और अधिकतम राशि 1.50 लाख रुपए है।

सुकन्या समृद्धि योजना में एक परिवार के कितनी बेटियों को लाभ मिल सकता है।

इस योजना के तहत एक परिवार की केवल दो बेटियों को ही लाभ मिल सकता है लेकिन अगर दूसरी बेटी जुड़वा होती है तो फिर उस स्थिति में तीसरी बेटी को भी इस योजना का पूर्ण लाभ मिलेगा।

सुकन्या समृद्धि योजना में धनराशि लाभार्थी को किस उम्र में मिलती है।

लाभार्थी बालिका के 18 वर्ष पूरा होने पर 50% धनराशि निकालने का प्रावधान है और 21 वर्ष हो जाने पर पूरे पैसे निकाले जा सकते हैं।

Leave a Comment